नई दिल्ली। साल 2012 में दिल्ली में हुए निर्भया कांड के बाद गौरव ने लड़कियां और महिलाओं को आत्मरक्षा की ट्रेनिंग दे रहे हैं। गौरव, साल 2012 से लेकर अभी तक 2 लाख 50 हजार से भी अधिक महिलाओं को आत्मरक्षा के गुर सिखा चुके हैं।

https://platform.twitter.com/widgets.js

गौरव को 9 प्रकार के मार्शल आर्ट्स आते हैं। गौरव ने कल्कि ऑर्ट ऑफ सेल्फ डिफेंस नाम की एक गैर सरकारी संस्था खोली है। गौरव का कहना है कि पारंपरिक तरीके से कराटे सीखना हर लड़की के लिए आसान नहीं है। शरीर के कई हिस्सों में सॉफ्ट प्वाइंटस और प्रेशर प्वाइंटस होते हैं। जिन पर प्रहार करने से सामने वाले पर बड़ा असर होता है।गौरव ने कहा कि उन्होंने आत्मरक्षा के 200 से ज्यादा तरीके इजाद किए। इन तरीकों को 6 साल से लेकर 60 साल तक की महिलाएं आसानी से सीख सकती हैं। अपनी पहल को लेकर गौरव को राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री तक से सम्मानित हो चुके हैं। गौरव एनसीसी कैडेट भी रहे हैं।