शिमला। देश में कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं। वायरस से अभी तक दो मौतें हो चुकी हैं। जहां पूरी दुनिया में लगभग 4000 लोगों की जान कोरोना वायरस के चलते चली गई है वहीं हिमाचल के कांगड़ा जिले के टांडा मेडिकल कॉलेज में भी कोरोना के दो संदिग्ध मरीजों को दाखिल किया गया है। इनमें से एक यूएसए से है। इसे मैक्लोडगंज से लाया गया है जबकि दूसरा मरीज नेपाल से है जो चामुंडा से आया है।

चिकित्सकों ने उपचार के दौरान इनके लक्षणों को भांपते हुए उन्हें तत्काल टीएमसी के आइसोलेशन वार्ड में दाखिल कर लिया है। दोनों मरीजों को चिकित्सकों की सघन निगरानी में रखा गया है।

बहरहाल राहत की बात यह है कि इनके खून के नमूने जांच के लिए पुणे नहीं भेजे जाएंगे, बल्कि टांडा में ही कोरोना वायरस के टेस्ट की सुविधा मिल जाएगी और शनिवार शाम तक इन दोनों की रिपोर्ट आ जाएगी। फिलहाल दोनों का उपचार चिकित्सकों की निगरानी में किया जा रहा है।

वहीं आईजीएमसी में भर्ती हांगकांग से लौटे संदिग्ध व्यक्ति की रिपोर्ट नेगेटिव आई है, लेकिन एहतियात के तौर पर उसे आब्जर्वेशन पर रखा है। सरकार ने संदिग्ध मरीज आईजीएमसी, टांडा और नेरचौक मेडिकल कॉलेज में भर्ती करने का फैसला लिया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान ने इसकी पुष्टि की है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के चलते देश में अब तक 2 लोगों की जान चली गई है। जिसमें एक कर्नाटक के कलबुर्गी में बुजुर्ग की मौत हो गई थी वहीं दिल्ली में गुरुवार को 68 साल की एक महिला की जान कोरोना वायरस के चलते चली गई है। फिलहाल कोरोना का खौफ अब धीर-धीरे बढ़ता चला जा रहा है।