नई दिल्ली। निर्भया के दोषियों के वकील ए.पी सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के बाहर निर्भया के चरित्र पर टिप्पणी की। जिसके बाद वो भीड़ के हाथों पिटते-पिटते बचच गए। दरअसल ए.पी सिंह ने कहा था कि निर्भया की मां को मालूम नहीं था कि उनकी बेटी रात के साढ़े बारह बजे कहां थी।

लोगों ने उन्हें निर्भया के चरित्र पर टिप्पणी करने से रोका और माफी मांगने को कहा, लेकिन एपी सिंह धीरे से वहां से निकल गए। तिहाड़ के बाहर लोगों ने नारेबाजी करते हुए कहा कि ए.पी सिंह को पागलखाने चले जाना चाहिए या फिर वकालत छोड़कर उन्हें संन्यास ले लेना चाहिए। आपको बता दें कि एपी सिंह निर्भया के दोषियों मुकेश, पवन, अक्षय और विनय की पैरवी कर रहे थे। सात साल केस लड़ने के बाद भी चारों दोषियों को बेगुनाह साबित नहीं कर पाए और पहली बार केस लड़ने वाली प्रैक्टिशनर सीमा कुशवाहा से केस हार गए। हार के बाद बौखलाए एपी सिंह ने निर्भया के चरित्र पर सवाल उठाए।