शिमला। 31 मार्च को चंडीगढ़ और हिमाचल में अफवाह उड़ी कि चंडीगढ़ स्थित हिमाचल भवन में आईएएस और एचएएस अधिकारियों को बच्चों ठहराया जा रहा है और आम जनता की सुध नहीं ली जा रही है। इस खबर को कुछ टीवी चैनल्स ने भी चलाया, लेकिन झूठ कुछ ही घंटों में पकड़ा गया। दरअसल हिमाचल भवन में सिर्फ 5 लोगों ने ही आश्रय लिया हुआ है और उनमें से कोई भी आईएएस अधिकारी या रसूखदार का बच्चा नहीं है। हिमाचल भवन में ठहरी इस लड़की की जुबानी सुनिए क्या है सच्चाई।

ये भी पढ़ें: जयराम सरकार को बदनाम करने की साजिश नाकाम