शिमला। कोरोना वायरस से संबंधित गलत खबरों के प्रसार की जांच के लिए राज्य सरकार ने ‘फेक न्यूज मॉनिटरिंग यूनिट’ का गठन किया। इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के तहत इसके बचाव संबंधी उपाय भी किए जा रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार विशेष रूप से प्रिंट, इलेक्ट्रोनिक और डिजिटल मीडिया पर नजर रखी जा रही है। डर का माहौल पैदा करने वाले अप्रमाणिक समाचार प्रसारित करने वालों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा सकती है। लोगों के संदेह को दूर करने के लिए सोशल मीडिया और अन्य मंचों सहित सभी मीडिया के माध्यम से भारत सरकार द्वारा  दैनिक बुलेटिन भारत के महाधिवक्ता द्वारा प्रस्तुत किए जाने के 24 घंटों के भीतर सक्रिय किया जाएगा। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने भी मीडिया को सलाह दी है कि कोविड-19 को लेकर सही समाचारों का प्रसार सुनिश्चित करें।

फेक न्यूज मॉनिटरिंग यूनिट प्रिंट, इलेक्ट्रोनिक, डिजिटल, सोशल मीडिया में कोरोना वायरस से संबंधित झूठे और गलत समाचारों के प्रसार पर निगरानी रख रही है। इसके अतिरिक्त कोरोना वायरस से संबंधित सूचना को मीडिया के साथ सांझा कर रही है। यूनिट संबंधित अधिकारियों, एजेंसियों को कानून के प्रावधान के अनुसार सुधारात्मक उपायों और उचित कार्रवाई के लिए सिफारिश की जाएगी। प्रवक्ता ने कहा कि फेक न्यूज मॉनिटरिंग यूनिट तत्काल प्रभाव से कार्य करना शुरू कर देगी।

निदेशक, सूचना एवं जन संपर्क, हरबंस सिंह ब्रसकोन फेक न्यूज मॉनिटरिंग यूनिट के अध्यक्ष होंगे। जबकि एस.पी. साइबर क्राइम संदीप धवाल, संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य विनोद शर्मा, संयुक्त निदेशक आईटी अनिल सेमवाल, संयुक्त निदेशक सूचना एवं जन संपर्क प्रदीप कंवर, संयुक्त निदेशक सूचना एवं जन संपर्क महेश पठानिया, उप निदेशक सूचना एवं जन संपर्क धर्मेंद्र ठाकुर, उप निदेशक (तकनीकी) सूचना एवं जन संपर्क यू.सी. कौंडल और प्रबंधक आईटी हिमाचल प्रदेश सचिवालय किशोर शर्मा सदस्य होंगे।

सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 के प्रावधान के अनुसार सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों को अपने उपयोगकर्ताओं को होस्ट करने, प्रदर्शित करने, अपलोड करने, संशोधित करने, प्रकाशित करने, प्रसारित करने, अपडेट करने या सांझा करने के लिए सूचित करने की आवश्यकता है जो सार्वजनिक आदेशों को प्रभावित कर सकते हैं और गैर कानूनी हो सकते हैं।

NOTE:- आपको एक बार फिर बता दें कि कोरोना वायरस से संबंधित गलत खबर का प्रसार करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।