नईदिल्ली/शिमला। पीएम मोदी ने शनिवार को कोरोना वायरस को लेकर किए गए लॉकडाउन को लेकर सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की।

पीएम मोदी  ने शनिवार को सभी मुख्यमंत्रियों के साथ करीब 4 घंटे बातचीत की। सरकार लॉकडाउन को 2 हफ्ते बढ़ा सकती है बस औपचारिक घोषणा का इंतजार है।  बैठक खत्म होने के बाद दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन बढ़ाने का सही फैसला लिया है। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भी कहा कि पीएम ने 30 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाने पर बातचीत की। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ऐलान कर दिया दि राज्य में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन रहेगा।

पीएम ने कहा जान है तो जहान है

प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जान है तो जहान है। मैं 24 घंटे 7 दिन फोन पर उपलब्ध रहूंगा। कोई भी मुख्यमंत्री मुझे फोन पर सलाह दे सकता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आरोग्य सेतु ऐप कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जरूरी हथियार है। इससे संभावना मिली है कि इसे एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए ई-पास के तौर पर इस्तेमाल किया जाए। 

  • प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में सुझाव दिया कि किसान खेतों में जो उगाते हैं, उसकी डायरेक्ट मार्केटिंग पर उन्हें इंसेंटिव देना चाहिए ताकि मंडियों में भीड़ जमा होने से रोका जा सके। इसके लिए नियमों में बदलाव करने चाहिए। इस तरह के कदम उठाने से किसान लोगों के दरवाजे तक अपनी उपज पहुंचा पाएंगे।
  • प्रधानमंत्री ने बताया कि वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जो कदम उठाए जा रहे हैं, वो अगले तीन से चार हफ्तों में निर्णायक साबित होंगे। इस चुनौती से निपटने के लिए टीमवर्क जरूरी होगा।
  • मोदी ने कहा कि कालाबाजारी और जमाखोरी नहीं होनी चाहिए। पूर्वोत्तर और कश्मीर के छात्रों और हेल्थ वर्कर्स पर हमले निंदनीय हैं। 
  • उन्होंने भरोसा दिलाया कि भारत में जरूरी दवाओं का पर्याप्त स्टॉक है। कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे फ्रंट लाइन वर्कर्स के लिए प्रोटेक्टिव गियर और जरूरी उपकरण मुहैया कराने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। 

केजरीवाल ने कहा- लॉकडाउन खत्म हुआ तो हम सब कुछ खो देंगे
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा- भारत की स्थिति दुनिया के कई विकसित देशों से बेहतर है, क्योंकि हमने लॉकडाउन काफी पहले ही कर दिया था। लॉकडाउन अभी खत्म हो गया तो हम सब कुछ खो देंगे।

कोरोना पर अब तक मोदी के 3 संबोधन

  • पहला: प्रधानमंत्री ने 19 मार्च को देश को संबोधित किया और जनता कर्फ्यू लगाने की बात कही थी। 22 मार्च को देशभर में सबकुछ बंद रहा। शाम को लोगों ने घरों के अंदर से ही कोरोना फाइटर्स का ताली और थाली बजाकर आभार जताया था।
  • दूसरा: मोदी ने 24 मार्च को संबोधित किया और कोरोना संक्रमण रोकने के लिए 25 मार्च से 14 अप्रैल तक देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि कोरोना की चेन तोड़ने के लिए लोग घरों में रहने की लक्ष्मण रेखा का पालन करें।
  • तीसरा: प्रधानमंत्री मोदी ने 3 अप्रैल को एक वीडियो संदेश जारी किया। इस दौरान लोगों से 5 अप्रैल की रात 9 बजे 9 मिनट के लिए घरों की लाइट बंद कर घरों में दीये, मोमबत्ती और मोबाइल की लाइट जलाकर एकजुटता दिखाने की अपील की थी।