बिलासपुर। वैश्विक माहमारी बन चुके कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जहां देशभर को 03 मई तक लॉक डाउन किया गया है तो वहीं बाहरी राज्यों में पढ़ने वाले हिमाचल प्रदेश के छात्रों को भी वहीं होम क्वारंटीन कर दिया गया था, लेकिन 33 दिनों का लॉक डाउन पीरियड पूरा होने पर अब इन छात्रों की प्रदेश वापसी की गई है।

जी हां मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रदेश से संबधित अन्य राज्यों में पढ़ने वाले छात्रों की वापसी के लिए एचआरटीसी बसों की व्यवस्था की ताकि सकुशल उन्हें प्रदेश में लाया जा सके। इसी के मदद्देनजर राजस्थान के कोटा व जयपुर में पढ़ रहे 47 छात्रों को 03 बसों के जरिये वापिस लाया गया है जिनका बिलासपुर की सीमा स्थित कैंचीमोड पर थर्मल स्क्रिनिंग के बाद ही प्रदेश में एंट्री दी गयी है। जिसके बाद बिलासपुर स्थित पर्यटन विभाग के लेकव्यू होटल में सभी छात्रों को सेनेटाइस कर कोरोना चेकअप किया गया।गौरतलब है कि यह सभी छात्र बिलासपुर, मंडी, कुल्लू व लाहौल स्पीति के रहने वाले हैं जो राजस्थान में पढ़ाई के लिए गए थे।

वहीं बिलासपुर के नायब तहसीलदार ऋषि यादव का कहना है कि छात्रों की कोरोना टेस्ट को लेकर पूरी एहतिहात बरती गई है और टेस्ट रिपोर्ट आने के बाद ही तय होगा कि उन्हें सेन्टर्स में क्वारंटीन किया जाएगा या फिर होम क्वारंटीन किया जाएगा। वहीं मौके पर तैनात पुलिस विभाग के एसआई करन सिंह का कहना है कि पुलिस प्रशासन द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखने का पूरा ख्याल रखा गया है ताकि टेस्ट के दौरान किसी तरह की कोई भीड़ इकट्ठी ना हो सके. वहीं कोटा व जयपुर में अपना कोरेंटाइन पीरियड पूरा करने के बाद वापिस हिमाचल पहुंचे छात्रों में खुशी की लहर देखने को मिली।