ऊना। लॉक डाउन के चलते बंद किये गए हिमाचल प्रदेश के प्रवेश द्वारों पर आज खूब भीड़ देखने को मिली। दरअसल प्रदेश सरकार द्वारा विभिन्न राज्यों में फंसे हिमाचलियों को घर वापसी के लिए पास जारी किये जाने के बाद हिमाचल के मैहतपुर प्रवेश द्वार पर घर वापिसी के लिए लोगों का खूब जमावड़ा देखने को मिला। ऊना, कांगड़ा, चंबा और हमीरपुर जाने के लिए मैहतपुर प्रवेश द्वार से होकर ही प्रदेश की सीमा में एंट्री की जा सकती है। मैहतपुर प्रवेश द्वार पर उमड़ी भीड़ को कंट्रोल करने के लिए खुद डीसी ऊना को प्रशासनिक अमले के साथ उतरना पड़ा और डीसी ऊना के मोर्चा संभालते ही मैहतपुर बॉर्डर पर व्यवस्थाएं सुचारु हो पाई।

कोरोना वायरस के चलते हुए लॉकडाऊन में पंजाब व दिल्ली सहित अन्य स्थानों पर फंसे हिमाचलियों के लिए ऑनलाइन पास से राहत लेकर आया है। बाहरी राज्यों में फंसे हिमाचलियों के लिए मैहतपुर का प्रवेश द्वार भी किसी राहत द्वार से कम नहीं रहा। पास लेकर आ रहे हिमाचलियों की भीड़ सोमवार सुबह से ही बैरियर के समीप जुटनी शुरू हो गई। करीब डेढ़ किलोमीटर तक वाहनों की लंबी लाईनें लग गई, जिसके चलते काफी जाम रहा। हिमाचल व पंजाब पुलिस की मदद से सभी की स्क्रीनिंग करने के बाद हिमाचल में प्रवेश दिया गया। हिमाचल के प्रवेश करते हुए लोगों के ऊना, कांगड़ा, हमीरपुर, चंबा के लोागें चेहरे पर खुशी साफ देखी जा सकती थी। हालांकि जिला ऊना के अन्य बॉर्डर पर ऐसी स्थिति देखने को नहीं मिली, लेकिन मैहतपुर के प्रवेश द्धार पर सुबह से की काफी भीड़ उमड़ी। भीड़ को देखते हुए डीसी ऊना संदीप कुमार प्रशासनिक अमलें के साथ मौके पर पहुंचे और खुद मोर्चा संभालते हुए लोगों को हिमाचल में प्रवेश दिलवाया। डीसी द्वारा व्यवस्था संभालने के करीब 30 मिनट बाद भी सारा जाम खुल गया। हिमाचल में पास लेकर आने वाले विभिन्न स्थानों के लोगों को 28 दिन के लिए होम क्वारंटाइन के निर्देश दिए जा रहे हैं। जिला ऊना के निवासियों को बॉर्डर पर स्क्रीनिंग की गई। वहीं पुलिस ने 149 सीआरपीसी का नोटिस देकर होम क्वांरटाइन के निर्देश दिए, जबकि अन्य जिलों के निवासियों को उनकी सीमाओ पर ये निर्देश मिलेंगे। जबकि बिना पास आने वालों को जिला में बने हुए क्वारंटाइन सेंटर में 28 दिन के लिए रखा जाएगा, इसके लिए बकायदा मैहतपुर में परिवहन निगम की बसें खड़ी गई है, ताकि ऐसे लोगों को क्वारंटाइन सेंटर पहुंचाया जा सके। डीसी ऊना संदीप कुमार ने बताया कि पास मान्य होने के चलते मैहतपुर बॉर्डर पर भीड़ जुटी थी लेकिन कुछ देर भी ही सारी स्थिति सामान्य हो गई थी।