शिमला। कोरोना जैसी महामारी से निपटने के लिए हिमाचल सरकार ने जो कदम उठाए उसके सकारात्मक परिणाम पूरा देश देख रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जयराम सरकार की सराहना करते हुए कहा कि अन्य राज्यों को भी हिमाचल मॉडल अपनाना चाहिए। पीएम ने कहा, 70 लाख की आबादी वाले राज्य हिमाचल में जिस तेजी से कोरोना वायरस के मामले ढूंढे गए और मरीजों को ठीक किया गया ये काबिल-ए-तारीफ है। पीएम ने डॉक्टर्स और पुलिस प्रशासन की भी तारीफ की। उन्होंने कहा कि बाकी राज्यों की सरकारों को भी अपने –अपने रेड जोन जिलों में हिमाचल प्रदेश के इस मॉडल को लागू करना चाहिए ताकि जल्द से जल्द कोरोना के मामले सामने आ सकें। पीएम के अलावा हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह भी जयराम सरकार की तारीफ कर चुके हैं।

हिमाचल प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव आर.डी धीमान ने बताया कि कोरोना लक्षणों की जांच के लिए 16000 कर्मचारी डोर-टू-डोर गए थे और ये एक्सरसाइज जारी है। उन्होंने बताया कि 5 दिन से ज्यादा समय गुजर चुका है, हर रोज टेस्ट किए जा रहे हैं, लेकिन अभी तक कोरोना का कोई नया मामला सामने नहीं आया है।

आपको बता दें कि हिमाचल में अभी तक कोरोना के 70 प्रतिशत केस तबलीगी जमात की वजह से हुए हैं। कांगड़ा, ऊना, सिरमौर, चंबा में कोरोना के केस सामने आने के बाद हिमाचल सरकार ने यहां कई इलाकों को हॉट स्पॉट घोषित किया। जिसके बाद तेजी से टेस्ट किए गए। अभी तक कुल 40 केस सामने आए हैं जिनमें से 25 मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं और 10 मरीज हिमाचल में उपचाराधीन हैं।

गौरतलब है कि देश में फैले कोरोना वायरस को लेकर पीएम मोदी ने 27 अप्रैल को मुख्यमंत्रियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की थी। इसमें मुख्यमंत्रियाें ने अपने-अपने विचार रखे। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रधानमंत्री से बातचीत में कहा कि देश में अभी भी जिस तरह से कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ रही है। उसे देखते हुए लॉकडाउन को बढ़ाने में ही बचाव है। इसके अलावा सीएम ने पीएम से प्रदेश के लिए वेंटिलेटर मुहैया करवाने के लिए मांग की।