हिमाचल प्रदेश में अगर एक सप्ताह पूरा होने पर यानि आज भी कोरोना का नया मामला नहीं आया तो हिमाचल कोरोना को मात देने वाला उत्तर भारत का पहला राज्य बनेगा। पांच मई तक सभी उपचाराधीन मरीजों के ठीक होने के बाद हिमाचल कोरोना मुक्त हो जाएगा। इसके लिए हिमाचल सरकार की कोरोना से निपटने के लिए खास प्लानिंग काफी अहम रही।

खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए हिमाचल सरकार की सराहना कर चुके हैं। पीएम मोदी ने अन्य राज्यों से अपील की थी कि अपने-अपने रेड जोन इलाकों में हिमाचल मॉडल को लागू करें ताकि कोरोना के मामले जल्द से जल्द सामने आ सकें।

पूरे देश में कोरोना से लड़ाई में हिमाचल सरकार के उठाए कारगर कदमों, बेहतर रणनीति के साथ किए अचूक प्रबंधन, एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान को प्रभावी चलाने और निगरानी की लगातार चर्चा हो रही है।

प्रदेश में 40 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए गए, जिनमें से 25 व्यक्ति स्वस्थ होकर घर चले गए। चार व्यक्ति प्रदेश से बाहर उपचाराधीन हैं, जबकि एक तिब्बत मूल के व्यक्ति का देहांत हुआ है। शेष 10 व्यक्तियों का अस्पतालों में लगातार स्वास्थ्य सुधार हो रहा है। एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान में 70 लाख लोगों की इन्फ्लुएंजा जैसी बीमारी के लिए जांच की। इस अभियान के तहत प्रदेश में जांच अनुपात देश में सबसे अधिक है। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी हिमाचल माॅडल की तारीफ कर चुके हैं यह प्रदेश के लिए गर्व की बात है।