शिमला/चंडीगढ़। हिमाचल के बहुचर्चित गुड़िया गैंगरेप और मर्डर केस में सूरज कस्टोडियल डेथ केस में चंडीगढ़ के सीबीआई कोर्ट ने पूर्व आईजी जहूर जैदी की जमानत याचिका खारिज कर दी। जहूर जैदी ने पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में भी जमानत याचिका लगाई है जिस पर चार मई को सुनवाई होगी। पूर्व आईजी जहूर जैदी ने खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए 60 दिनों की अंतरिम जमानत की मांग की थी।

आपको बता दें कि 4 जुलाई 2017 छात्रा लापता हुई और 16 जुलाई को उसका शव कोटखाई के जंगल से बरामद हुआ। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दुष्कर्म के बाद हत्या की पुष्टि हुई थी। पूरे प्रदेश में पीड़िता को इंसाफ के लिए आवाज उठने लगी तो पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। 18 जुलाई को आरोपी सूरज की जेल में पुलिस कस्टडी में मौत हो गई। बाद में तत्कालीन वीरभद्र सरकार ने केस सीबीआई को सौंप दिया। सीबीआई ने जांच के दौरान पूर्व आईजी जैदी समेत नौ पुलिसवालों को गिरफ्तार किया।

इस मामले में पूर्व आईजी जहूर जैदी, शिमला के पूर्व एसपी डीडब्ल्यू नेगी, ठियोग डीएसपी मनोज जोशी, पूर्व एसएचओ राजिंद्र सिंह, एएसआई दीपचंद, हेड कॉन्स्टेबल सूरत सिंह, मोहन लाल, रफी अली और कॉन्स्टेबल रंजीत को गिरफ्तार किया गया है।