अयोध्या। राम मंदिर का निर्माण शुरू हो चुका है। खुदाई में प्राचीन अवशेष, कई पुरातात्विक मूर्तियाँ, खंभे और शिवलिंग मिल रहे हैं। श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महामंत्री चम्पत राय ने कहा कि मलबा हटाने के दौरान कई मूर्तियाँ और एक बड़ा शिवलिंग भी मिला है।

अयोध्या रामजन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद से ही राम मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो गया था, लेकिन इसी बीच कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन के चलते यह निर्माण कार्य कुछ समय के लिए स्थगित कर दिया गया था।

सदियों से विवादित रहे अयोध्या में हिन्दू आस्था के प्रतीक श्री राम मंदिर निर्माण के लिए निर्मित ट्रस्ट श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र का कहना है कि समतलीकरण के दौरान बड़ी मात्रा में पुराने अवशेष, जैसे – देवी-देवताओं की खंडित मूर्तियाँ, पुष्प, कलश, दोरजाम्ब जैसी कलाकृतियाँ, भवन के मेहराब के पत्थर, 7 ब्लैक टच स्टोन के स्तम्भ, 8 रेड सैंड स्टोन के स्तंभ और 5 फिट आकार की नक्काशीयुक्त शिवलिंग की आकृति मिली है।

श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महामंत्री चंपत राय ने बताया कि समतलीकरण कार्य में 3 जेसीबी, 1 क्रेन, 2 ट्रैक्टर और 10 मजदूर लगाए गए हैं। उन्होंने बताया कि 11 मई से चल रहे समतलीकरण कार्यक्रम के दौरान जहाँ हाई कोर्ट के आदेश पर एएसआई ने खुदाई करवाई थी, वहाँ और आसपास के क्षेत्र में काफी संख्या में देवी-देवताओं की मूर्तियों के पुरावशेष के साथ-साथ कई प्रकार की कलाकृतियाँ भी निकली है।