हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में शुक्रवार (10 जुलाई, 2020) को मंदिर तोड़ने की घटना सामने आई है। जानकारी के अनुसार इंदौरा थाना क्षेत्र में समुदाय विशेष के कुछ लोगों ने मंदिर को तहस-नहस कर दिया। जिसके चलते हिन्दू समुदाय के लोग भड़क गए और माहौल तनावपूर्ण हो गया। माहौल बिगड़ता देख मौके पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार 1 हफ्ते पहले इलाके में हिन्दू समुदाय के लोगों ने मिलकर एक छोटा सा पूजा स्थल तैयार किया था। जिसके पास की बस्ती में रहने वाले अल्पसंख्यक समुदाय लोगों ने विरोध किया और रात में मंदिर को ध्वस्त कर दिया। सुबह जब लोगों ने देखा तो वहाँ मंदिर का नामोनिशान नहीं था।

जिसके बाद दोनों समुदायों के बीच झड़प शुरू हो गया। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अल्पसंख्यक समुदाय के 30-40 लोगों ने शिकायतकर्ता और दूसरों लोगों के साथ गली-गलौज किया, साथ ही उनपर पथराव भी किया और उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी।

मंदिर तोड़ने की बात फैलते ही हिन्दू समाज के लोग इलाके में इकट्ठा होने लगे। घटना की जानकारी लगते ही स्थानीय पुलिसबल ने भी मौके पहुँच कर लोगों को शांत करने की कोशिश की। लेकिन माहौल बिगाड़ता देख पुलिसबल को नजदीकी थानों से अतिरिक्त पुलिस बटालियन को बुलाना पड़ा। जिसके बाद कहीं जाकर हालात को काबू किया गया।

वहीं हालात की गंभीरता को देखते हुए उच्च अधिकारियों को भी सूचना दे दी गई। जिसके बाद डीएसपी नूरपुर, डॉ साहिल अरोड़ा को भी स्थिति का जायजा लेने के लिए मौके पर पहुँचना पड़ा। डीएसपी ने घटना की जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस ने शिकायतकर्ता के बयानों के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।

अज्ञात आरोपितों के खिलाफ आईपीसी की धारा 295, 504, 506 व 147 के तहत मुकद्दमा दर्ज कर उनकी तलाश की जा रही है। इसके साथ पुलिस आगे की जाँच में जुटी है। उन्होंने लोगों से आपस में शांति बनाए रखने की अपील भी की।