शिमला। देश में तेजी से फैल रहे कोरोना महामारी के दौरा में कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी शिमला के छराबड़ा स्थित नए आशियाने में अपना कुछ समय बिताना चाहती हैं। जिसके लिए उन्होंने शिमला जिला प्रशासन ने अनुमति मांगी है। प्रियंका ने 10 अगस्त के लिए कोविड-ई पास के लिए रजिस्ट्रेशन किया है। इस आवेदन में उनके बच्चों के अलावा 12 लोगों के नाम शामिल हैं।
डीसी शिमला अमित कश्यप से मिली जानकारी के मुताबिक आवेदन में कुछ दस्तावेज अधूरे हैं, जिसके चलते उन्हें अभी अनुमति नहीं दी गई है। चूंकि हिमाचल में दिल्ली के सभी जिलों को कोविड के हैवी लोड वाले शहरों की सूची में डाला गया है। ऐसे में प्रियंका व उनके साथ के लोगों को कोविड निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट साथ लानी होगी। रिपोर्ट न होने पर नियमानुसार उन्हें संस्थागत क्वारंटीन होना पड़ सकता है।
दरअसल, प्रियंका गांधी अपने बच्चों के साथ हिमाचल आना चाहती है। ऐसे में नियम के मुताबिक ऐसे में नियम के मुताबिक, शिमला आने पर सभी को कोविड की निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। अन्यथा उन्हें इंस्टीट्यूशनल क्वारानटाइन होना पड़ सकता है। इस बारे में जिला प्रशासन का कहना है कि आवेदन में 10 से 12 लोगों के लिए अनुमति मांगी है। यह अनुमति 10 अगस्त से 31 अगस्त तक की है।
कैसा है प्रियंका का आशियाना?
प्रियंका का यह कॉटेज शिमला से 20 किमी दूर प्रेजिडेंट रिट्रीट के पास है। यह कॉटेज कुछ साल पहले बनाया गया था। नवरात्रों के उपलक्ष्य में सितंबर 2019 में प्रियंका ने यहां परिवार के साथ एक पार्टी की थी। अमूमन प्रियंका यहां अपनी मां सोनिया गांधी के साथ गर्मियों में समय बिताने आया करती थीं। लेकिन इस बार कोविड-19 के चलते वह यहां नहीं आ पाईं।
कांग्रेस सरकार ने दी थी जमीन खरीदने की अनुमति
2007 में कांग्रेस सरकार ने अपने कार्यकाल के दौरान लैंड रिफॉर्म्स एंड टीनेंसी एक्ट सेक्शन 118 के नियमों में ढ़ील देते हुए प्रियंका को यहां जमीन खरीदने की अनुमति दी थी। इसके बाद भाजपा के प्रेम कुमार धूमल के मुख्यमंत्री के कार्यकाल के दौरान उन्हें कॉटेज के आसपास अतिरिक्त जमीन खरीदने की अनुमति दी गई थी।