चीनी नागरिक द्वारा भारत में चलाए जा रहे हवाला कारोबार को लेकर कई खुलासे हो रहे हैं। जांच में पता चला है कि लोउ सांग भारत में अपनी पहचान बदलकर रह रहा था और उसने मणिपुर की एक लड़की से शादी भी की है। मंगलवार को ही आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी कर करीब 1000 करोड़ रुपये के हवाला कारोबार का भांडा फोड़ दिया।

आयकर विभाग की छानबीन में पता चला है कि वह लोउ सांग से चार्ली पैंग बन गया था और खुद को भारतीय नागरिक कहता था। उसके बाद भारत का फर्जी पासपोर्ट और आधार कार्ड है, चार्ली ने मणिपुर की लड़की से शादी की।

हवाला के जरिए लोउ रोजाना 3 करोड़ रुपये निकालता था, इसमें उसकी मदद बंधन बैंक और ICICI बैंक के अधिकारी करते थे। चीनी संदिग्ध के पास करीब 40 बैंक अकाउंट हैं। ये घोटाला करीब तीन साल से चल रहा था, जिसमें फर्जी कंपनियां बनाई गईं. घोटाले की कुल कीमत एक हजार करोड़ का आंकड़ा पार कर सकती है.

आरोपी बार-बार पता बदलता था। पहले वो दिल्ली के द्वारका में रुका था और फिर डीएलएफ इलाके में।

दरअसल, खुफिया एजेंसियों की जानकारी के आधार पर IT की टीम ने दिल्ली, गाजियाबाद और गुरुग्राम में चीनी नागरिकों के 21 ठिकानों पर छापेमारी की थी. अब तक आयकर विभाग को 300 करोड़ के हवाला लेनदेन का पता चला है, लेकिन विभाग के मुताबिक ये रकम एक हजार करोड़ से ज्यादा की हो सकती है।