नई दिल्ली। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई ने 19 अगस्त को फैसला सुनाते हुए कहा कि सुशांत की मौत की जांच सीबीआई ही करेगी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा, “सीबीआई जांच के मामले को महाराष्ट्र सरकार चुनौती नहीं दे सकेगी। पटना में दर्ज की गई एफआईआर सही थी।”

सुशांत के पिता के वकील विकास सिंह ने कहा, “सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश भी दिया है कि इस मामले में कोई और एफआईआर दर्ज होती है तो, उसकी जांच भी सीबीआई करेगी। हमें बहुत जल्द इंसाफ मिलने की उम्मीद है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सुशांत का परिवार खुश है।”

सुशांत की गर्लफ्रेंड रह चुकीं रिया चक्रवर्ती ने पटना की जांच को मुंबई ट्रांसफर करने की अपील की थी। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 11 अगस्त को फैसला रिजर्व रखते हुए सभी पक्षों से लिखित जवाब मांगा था।

आपको बता दें कि रिया ने कहा था कि सीबीआई को केस ट्रांसफर करना गैर-कानूनी है। अगर कोर्ट खुद सीबीआई से जांच करवाने का फैसला लेता है, तो फिर कोई आपत्ति नहीं होगी। इस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि सीबीआई जांच का फैसला सही है। मेहता ने मुंबई पुलिस के तरीके पर भी सवाल उठाए थे। उनका कहना था कि मुंबई पुलिस ने कोई एफआईआर दर्ज नहीं की, फिर 56 लोगों को समन भेजकर उनके बयान दर्ज कैसे कर लिए?

मेहता ने यह दलील भी दी थी कि सुशांत मामले में ईडी पहले ही केस दर्ज कर चुका है। जब एक केंद्रीय एजेंसी जांच शुरू कर चुकी है, तो फिर दूसरी एजेंसियों के जांच करने में भी कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा कि  “सुप्रीम कोर्ट का फैसला 130 करोड़ भारतीयों की भावना की जीत है। सुशांत के केस में हमने अभी तक जो काम किया वह कानूनी रूप से किया। हमारा अफसर मुंबई गया तो उसे क्वारंटीन कर दिया गया, यह गलत था। मुझे विश्वास है कि सुशांत केस में नतीजा निकलेगा, क्योंकि यह हिंदुस्तान की लड़ाई है। कुछ लोगों को बेचैनी थी कि इस मामले में कुछ खुलासा नहीं हो जाए।”

सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने मंगलवार को महाभारत की एक फोटो इंस्टाग्राम पर शेयर कर लिखा- “अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलो! शरणागति।”

सुशांत सिंह राजपूत केस में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आते ही बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख और मुंबई पुलिस कमिश्नर का इस्तीफा मांगा।