शिमला। सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में लगातार बयान दे रहीं और सोशल मीडिया के जरिए अपनी आवाज उठा रहीं कंगना रनौत की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। शिमला पुलिस को कंगना पर देशद्रोह और SC/ST एक्ट  की धारा के तहत एफआईआर दर्ज करने की शिकायत मिली है। शिमला के एसपी ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा, ‘इसके कानूनी पहलू और प्रारंभिक जांच के बाद ही मामला दर्ज किया जाएगा। फिलहाल ट्वीट को लेकर कानूनी राय ली जा रही है।

आपको बता दें कि सामाजिक और आरटीआई कार्यकर्ता रवि कुमार ने 27 अगस्त को शिमला पुलिस को एक शिकायत दी थी। इस शिकायत में रवि ने कंगना पर आरोप लगाया था कि उन्होंने भारतीय संविधान पर अभद्र टिप्पणी की है और दलित समाज को चूहा लिख कर अपमानित किया है।

शिमला के एसपी मोहित चावला का कहना है कि ढली थाने में शिकायत मिली है। एडिशनल एसपी प्रवीर ठाकुर इस मामले को देखेंगे। उन्होंने कहा कि पहले ये देखा जाएगा कि जो ट्वीट में लिखा है, वो देशद्रोह या SC/ST की धारा के तहत आता है या नहीं। इसको लेकर पहले कानूनी राय ली जाएगी।

एसपी को दिए शिकायत पत्र में रवि कुमार ने लिखा है कि 23 अगस्त 2020 को रात 8:10 बजे कंगना रनौत ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक ट्वीट किया कि भारतीय संविधान के कारण देश में आरक्षण केरूप में जातिवाद है। आगे लिखा है कि जब दलित समाज के लोगों ने इसका विरोध किया तो कंगना रनौत ने 24 अगस्त को फिर से अपने ट्वीट में चूहा लिख कर दलितों का अपमान किया।

रवि ने लिखा है कि भारतीय संविधान की धारा 13,14,15 के तहत जातिवाद को पूरी तरह से खत्म कर दिया गया है। भारतीय संविधान की धारा 309 में सभी के बराबर के प्रतिनिधित्व का अधिकार है। इन धाराओं के अनुसार कंगना रनौत का ये ट्वीट संविधान विरोधी है।

साभार- न्यूज इनपुट न्यूज 18 हिमाचल