शिमला। हिमाचल विधानसभा का मानसून सत्र सोमवार दोपहर बाद दो बजे से शुरू होगा। कोरोना काल में पहली बार हो रहे सत्र के हंगामेदार रहने के आसार हैं।

सत्र में  कोरोनाकाल में हुई स्वास्थ्य विभाग में खरीद-फरोख्त में गड़बड़ी, एक कैबिनेट मंत्री पर भ्रष्टाचार के आरोप, अफसरों की मनमानी और फर्जी गरीब अफसरों के मुद्दे गूंजेंगे।

विपक्ष ने सरकार को बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, कानून-व्यवस्था, रिक्तियों, आर्थिक कुप्रबंधन जैसे कई मुद्दों को हथियार बनाकर घेरने की भी रणनीति बनाई है। हालांकि सत्ता पक्ष ने भी कांग्रेस के पिछले शासनकाल की नाकामियां गिनाकर विपक्ष को मुंहतोड़ जवाब देने की तैयारी में है। सात सितंबर को शुरूहोने जा रहा सत्र 18 सितंबर तक चलेगा। सोमवार को दो बजे के बाद इस सत्र का आरंभ दिवंगत विधायकों के शोकोद्गार से होगा। इसके बाद प्रश्नकाल होगा।

सचिवालय को अब तक 800 से ज्यादा सवाल प्रश्नकाल के लिए मिल चुके हैं। करीब एक दर्जन विषयों पर अलग-अलग नियमों में चर्चा मांगी गई है।

इसमें विपक्ष के विधायकों के अलावा सत्तापक्ष के विधायकों ने भी सवाल लगाए हैं। इनमें से विधायकों के अपने हलकों की सड़कें, पानी और अन्य समस्याओं पर सवाल हैं।