ऊना। जिले में एक ऐसी दिल दहला देनी वाली घटना हुई है कि आपका इंसानियत से भरोसा उठ जाएगा. आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि क्या कोई इतना निर्दयी भी हो सकता है.

न्यूज 18 हिमाचल में छपी खबर के अनुसार कुछ लोगों ने रात के अंधेरे में पांच बैलों को पहाड़ी से फेंक दिया. इसमें 4 बैलों की मौत हो गई जबकि एक बुरी तरह जख्मी है.

कुटलैहड़ विधानसभा क्षेत्र के बंगाणा उपमंडल के तहत प्रसिद्ध धार्मिक स्थल डेरा बाबा योगी पंगा के पास गांव जोगीपंगा के पास की यह घटना है. ये कुकृत्य करने वालों का अभी तक पता नहीं लगा है. पांच में से चाल बैलों की मौत हो गई है, जबकि एक गंभीर घायल बैल का इलाज पशुपालन विभाग की टीम कर रही है.

मामले की सूचना मिलते ही गौ सेवा आयोग के सदस्य कृष्ण पाल शर्मा भी मौके पर पहुंचे. कृष्ण पाल ने इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा की है. स्थानीय लोगों ने इस मामले में संलिप्त लोगों पर कड़ी कार्रवाई की मांग उठाई है.

बैलों को जहर भी दिया गया था: बताया जा रहा है कि इन बैलों को जहरीली दवा की ओवरडोज भी दी गई है और उसके बाद इन्हें ढांक से नीचे फेंका गया, जिसके चलते यह गौवंश मौत का शिकार हुए हैं.

घटना के सामने आने के बाद जिला भर के धार्मिक और सामाजिक संगठन उग्र हो चुके हैं. गोवंश के साथ किए गए इस क्रूर व्यवहार के बाद हर तरफ से दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग उठने लगी है.

संगठनों ने पुलिस से निष्पक्ष कार्रवाई अमल में लाते हुए दोषियों को सलाखों के पीछे धकेलने की मांग की है.

ग्राम पंचायत मोमन्यार के उप प्रधान इकबाल सिंह ने कहा कि इस तरह की घटनाएं बर्दाश्त नहीं की जाएगी. पुलिस को इसकी निष्पक्ष जांच करनी चाहिए और ऐसा कुकृत्य करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जानी चाहिए, उन्होंने कहा कि ऐसी कार्रवाई होनी चाहिए कि भविष्य में कोई भी इस तरह का कुकृत्य करने की हिम्मत ना करें.हिमाचल प्रदेश गौ सेवा आयोग के सदस्य कृष्ण पाल शर्मा ने इस घटना की कड़े शब्दों में भर्त्सना की है. फिलहाल, पुलिस से मामले की शिकायत दी गई है.