नई दिल्ली। बिहार में विधानसभा चुनाव का बिगुल बज गया है. चुनाव आयोग ने शुक्रवार चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया. बिहार में तीन चरणों में मतदान होगा. 28 अक्टूबर, 3 नवंबर और 7 नवंबर को वोटिंग होगी और 10 नवंबर को नतीजे आएंगे. बिहार में 29 नवंबर को मौजूदा सरकार का कार्यकाल खत्म हो रहा है इससे पहले दोबारा विधानसभा का गठन होना है. बिहार में 243 विधानसभा सीटें हैं. मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि मध्य प्रदेश, कर्नाटक और यूपी के लिए उपचुनाव की तारीखों का ऐलान 29 नवंबर को किया जाएगा.

3 चरणों में चुनाव

  • 28 अक्टूबर को 16 जिलों की 71 सीटों पर वोटिंग होगी. मतदान के लिए 31 हजार पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे.
  • 3 नवंबर को 17 जिलों की 94 सीटों पर मतदान होगा. मतदान के लिए 42 हजार पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे.
  • 7 नवंबर को 15 जिलों की 78 सीटों के लिए वोटिंग होगी. इसके लिए 33.5 हजार पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे.

मुख्य चुनाव अधिकारी सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि 70 देशों ने चुनाव टाल दिए हैं, लेकिन हम चाहते हैं कि लोगों का लोकतांत्रिक अधिकार बनी रहे. कोरोना काल में ये देश का ही नहीं बल्कि दुनिया का सबसे बड़ा चुनाव होने जा रहा है. इसलिए कई बड़े बदलाव करने पड़े.

बिहार में 243 सीटें हैं। 38 सीटें आरक्षित हैं. 7.29 करोड़ लोग वोट डालेंगे. 1.73 लाख वीवीपैट का इस्तेमाल होगा. 46 लाख मास्क, 7.6 लाख फेस शील्ड, 23 लाख जोड़े हैंड ग्लव्स और 6 लाख पीपीई किट्स का इस्तेमाल होगा.

वोटिंग का समय बढ़ाया गया

कोरोना के कारण मतदान का समय 1 घंटा बढ़ाया गया है. नक्सल प्रभावित क्षेत्रों को छोड़कर सामान्य इलाकों में सुबह 7 से शाम 5 की बजाय सुबह 7 से शाम 6 के बीच वोटिंग होगी. एक पोलिंग बूथ पर 1500 की जगह 1000 वोटर आएंगे. मतदान के आखिरी घंटे में कोरोना मरीज भी वोट डाल सकेंगे.

नामांकन के नियम
इस दौरान उम्मीदवार 5 की जगह 2 ही गाड़ियां साथ ले जा सकेंगे. कोरोना के जो मरीज क्वारैंटाइन हैं, वे वोटिंग के दिन आखिरी घंटे में ही मतदान कर पाएंगे.

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को भी निर्देश
CEC सुनील अरोड़ा ने कहा कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से अपेक्षा की जाती है कि वे अपने प्लेटफ़ॉर्म के दुरुपयोग के खिलाफ सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम करें और अगर ऐसा कोई विवाद सामने आए ऐसे मुद्दों से निपटने के लिए सख्त प्रोटोकॉल बनाए जाएं.

आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) लागू
सीईसी अरोड़ा ने बताया कि इस घोषणा के साथ आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) लागू हो गई है. इनके दिशानिर्देशों के प्रभावी कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए आयोग ने पहले से ही विस्तृत व्यवस्था की है.



सिर्फ वर्चुअल प्रचार होगा
सीईसी अरोड़ा ने बताया कि सिर्फ वर्चुअल प्रचार होगा और अगर ऑफलाइन नामांकन कर रहे हैं तो 2 वाहन और 2 ही लोग साथ रहेंगे. बताया गया कि इस बार होने वाले विधानसभा चुनाव में पोलिंग बूथ पर वोटर्स की संख्या घटा दी गई है. राज्य में 7.29 करोड़ वोटर्स हैं जिसमें 3.39 करोड़ महिला और 3.79 करोड़ पुरुष मतदाता हैं.

ऑनलाइन कर सकेंगे नामांकन
इस बार विधानसभा चुनावों में प्रत्याशी ऑनलाइन नामांकन, डिपॉजिट भर सकते हैं. साथ ही वे जीत का डिजिटल प्रमाण पत्र भी पा सकते हैं.


80 वर्ष या उससे ऊपर की उम्र वालों के लिए पोस्टल बैलेट
चुनाव आयुक्त सुनील अरोरा ने जानकारी दी कि 243 सीटों वाली बिहार विधानसभा में इस बार 80 वर्ष या उससे ऊपर की उम्र वाले लोग पोस्टल बैलेट से वोट डाल सकेंगे. उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल 65 वर्ष से ही यह मांग कर रहे थे लेकिन ज्यादा बूथों की संख्या होने के कारण ऐसा नहीं किया गया.

विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर, 2020 को समाप्त
सुनील अरोड़ा ने कहा कि बिहार राज्य में विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर, 2020 को समाप्त होने वाला है. बिहार विधानसभा में 243 सदस्यों की संख्या है, जिनमें से 38 सीटें एससी और दो एसटी के लिए आरक्षित हैं.

बता दें कोरोना काल में हो रहे चुनाव के लिए आयोग ने मतदान बूथों पर सोशल डिस्टेंसिंग के सख्ती से हो पालन करने, जहां महिला वोटरों की संख्या कम हो वहां ये संख्या बढ़ाने, कैम्प लगाकर पुरुष व महिला वोटरों का अनुपात ठीक करने, वापस आये मजदूरों को शत-प्रतिशत वोटर बनाने, दिव्यांग वोटरों की सहभगिता सौ प्रतिशत करने, कोरोना को देखते हुए क्राउड मैनेजमेंट हो बेहतर करने और पर्याप्त संख्या में निर्वाचनकर्मियों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं.

उम्मीदवारों के लिए महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश
उम्मीदवार को डोर टू डोर कैंपेन में सिर्फ 5 लोगों के साथ जाने की इजाजत होगी. यानी उम्मीदवार अपने साथ सिर्फ 4 लोगों को साथ ले जा सकेगा. इसके अलावा नामांकन के दौरान उम्मीदवार को अपने साथ दो लोग और दो गाड़ियों को ले जाने की इजाजत होगी.


इसके अलावा पहली बार जमानत राशि ऑनलाइन भरने की सुविधा दी गई है. पब्लिक मीटिंग और रोड शो की अनुमति गृह मंत्रालय और राज्यों के कोरोना पर दिशानिर्देशों के अनुसार मिलेगी. रोड शो में 5-5 गाड़ियों के बीच में आधे घंटे का गैप होना चाहिए.ए.