शिमला। विश्व शिक्षक दिवस पर हिमाचल प्रदेश के सरकारी स्कूलों के 16 शिक्षकों को राज्य स्तरीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

पांच साल में सौ फीसदी परिणाम और विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने के लिए काम करने पर इन शिक्षकों को यह पुरस्कार दिया गया।

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने पीटरहॉफ में शिक्षकों को शॉल, टोपी और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। पुरस्कार के तौर पर राज्य स्तरीय पुरस्कार विजेता शिक्षकों को एक साल और राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता शिक्षकों को दो साल का सेवा विस्तार दिया गया। 

सम्मानित किए गए शिक्षकों में तीन प्रिंसिपल, एक मुख्य अध्यापक, तीन प्रवक्ता, दो डीपीई, एक टीजीटी, दो सीएंडवी, एक पीईटी, चार जेबीटी शामिल रहे।

राज्यपाल ने शिक्षकों को बधाई देते हुए विद्यार्थियों को संस्कार युक्त शिक्षा देने की अपील की। उन्होंने कहा कि गूगल से ज्यादा ज्ञान गुरुओं के पास होता है। शिक्षकों पर भविष्य के निर्माण की सबसे बड़ी जिम्मेवारी होती है।

इस अवसर पर दत्तात्रेय ने कहा कि भारत सरकार ने 34 वर्षों के बाद देश में राष्ट्रीय शिक्षा नीति का क्रियान्वयन किया है।दत्तात्रेय ने कहा कि राष्ट्र की उन्नति में तीन तत्त्वों का महत्त्वपूर्ण योगदान होता है। यह तीन तत्त्व शिक्षा, रोजगार और सशक्तिकरण हैं। उन्होंने कहा कि भारत एक युवा राष्ट्र है जिसकी 62.5 प्रतिशत जनसंख्या का आयु समूह 15-59 वर्ष है, जो वर्ष 2036 तक 65 प्रतिशत पहुंच जाएगा। उन्होंने कहा कि आज सार्वभौमिक छवि वाले एक शक्तिशाली राष्ट्र के निर्माण के लिए प्रतिबद्धता की आवश्यकता है जिसे युवाओं की सक्रिय भागीदारी से सुनिश्चित किया जा सकता है।

राज्यपाल ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला चम्बा के प्रधानाचार्य विकास महाजन, राजकीय माॅडल वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला पोर्टमोर के प्रधानाचार्य नरेन्द्र कुमार सूद, राजकीय माॅडल वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला के प्रधानाचार्य दिक्कित डोलकर, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला धरोट धार बग्सेड़ (मण्डी) के प्रधानाचार्य उत्तम सिंह, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला गड़ाकुफरी के प्रवक्ता दयानन्द शर्मा, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बागली (कांगड़ा) के प्रवक्ता राकेश कुमार वालिया, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला धुंदन (सोलन) के प्रवक्ता नरेन्द्र कपिला, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला जोणाजी (सोलन) के डीपीई हेम कुमार शर्मा, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खरगा (कुल्लू) के डीपीई दयानन्द ठाकुर, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कथेड़ (सोलन) की टीजीटी सुनिता कुमारी, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सुल्तानपुर (सोलन) के टीजीटी देवदत्त शर्मा, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला लम्बलू (हमीरपुर) के शास्त्री तिलक राज शर्मा, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला औछघाट की शारीरिक शिक्षा अध्यापिका नर्वदा सूद, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला हरिपुरधार (सिरमौर) के सीएचटी नरेश ठाकुर, राजकीय प्राथमिक पाठशाला बरोहा (बिलासपुर) के जेबीटी विनोद कुमार, राजकीय प्राथमिक पाठशाला झगरियानी (हमीरपुर) की सीएचटी प्रोमिला देवी तथा राजकीय प्राथमिक पाठशाला गेहड़वीं (बिलासपुर) की जेबीटी अंजना शर्मा को राज्य पुरस्कार से सम्मानित किया।

राज्यपाल ने वर्ष 2019 के राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला चम्बा के प्रधानाचार्य विकास महाजन को भी सम्मानित किया।