हमीरपुर। हिमाचल प्रदेश कर्मचारी चयन आयोग द्वारा आयोजित की गई हिमाचल पथ परिवहन निगम कंडक्टर भर्ती की लिखित परीक्षा को लेकर विवाद बढ़ता देख मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने जांच के आदेश दे दिए हैं.

क्या है मामला ?

18 अक्टूबर को प्रदेश में परीक्षा थी। परीक्षा शुरू होने के थोड़ी देर बाद प्रश्न पत्र सोशल मीडिया में वायरल हो गया. इस मामले को लेकर कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन ब्रिगेडियर सतीश कुमार ने बताया कि एपीजी विश्वविद्यालय शिमला में एक कैंडिडेट कोविड नियमों की छूट का गलत फायदा उठाकर मोबाइल लेकर परीक्षा केंद्र में चला गया और उसी ने ये प्रश्न पत्र लीक किया.

वायरल प्रश्न पत्र।

प्रश्नों के जवाब मिलने से पहले ही ड्यूटी पर तैनात अधिकारियों ने कैंडिडेट को पकड़ लिया. छोटा शिमला पुलिस थाने की पुलिस और एसपी मोहित चावला खुद मौके पर पहुंचे. एएसपी परवीर ठाकुर ने कहा कि अभ्यर्थी से पूछताछ की जा रही है. आपको बता दें कि 568 पदों के लिए 50 हजार से ज्याजा अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी.

सीएम ने दिए जांच के आदेश

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने हिमाचल पथ परिवहन निगम में कंडक्टरों की भर्ती के लिए आयोजित परीक्षा का प्रश्न पत्र लीक होने के मामले में कड़ा संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मामले में जो भी दोषी पाया जाएगा उसे बख़्शा नहीं जाएगा और उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि लिखित परीक्षाएं पूरी तरह से पारदर्शी तरीके से आयोजित की जाएं ताकि भविष्य में इस तरह की कोई घटना घटित न हो।